फ्लोट चार्ट (Flow Chart) क्या है इसके फायदे और नुकशान क्या क्या...

फ्लोट चार्ट (Flow Chart) क्या है इसके फायदे और नुकशान क्या क्या है

SHARE

किसी भी प्रोग्राम के लिए अल्गोरिथम (algorithm) लिखने के बाद नेक्स्ट स्टेप फॉलोचार्ट (Flowchart) बनाना होता है  फ्लो चार्ट किसी भी प्रोग्राम के कोड को लिखने में एहम भूमिका निभाता है फ्लो चार्ट से ही आपको समझ में आता है की आखिर किसी भी  प्रोग्राम में आपको क्या करना है और किस तरह प्रोग्राम फ्लो करेगा एक जगह से दूसरी जगह इसलिए  फ्लो चार्ट क्या है ? (What is flowchart in hindi) फ्लो चार्ट कैसे बनाते है ( How to make flow chart) , फ्लो चार्ट बनाने के फायदे क्या है यानि एडवांटेज(Advantage) और डिसएडवांटेज (Disadvantage) क्या क्या है ये सब जानना बहोत जरुरी है.

किसी भी अल्गोरिथम को फ्लो चार्ट (Flowchart)  के दुवारा दर्शाने के लिए फ्लो चार्ट में कई तरह के डायग्राम (Diagram) का प्रयोग किया जाता है जिसकी मदद से फ्लो चार्ट आप क्रिएट कर सकते लेकिन उससे पहले आइये जान लेते है आखिर फ्लो चार्ट होता क्या है.

What is FlowChart in hindi ? फ्लोचार्ट क्या है

फ्लो चार्ट किसी भी अल्गोरिथम का ग्राफिकल रीजेंटेशन (Graphical Representation) होता है किसी भी कंप्यूटर प्रोग्राम में , यानि की अल्गोरिथम में हम जो कुछ भी लिखते है उसे एक डायग्राम में दर्शाना या फिर शो (Show) करना ही फ्लो चार्ट कहलाता है तो इसके लिए कई सारे डायग्राम यूज़ किये जाते है जैसे की स्क्वायर(Square) , रेक्टेंगल (Rectangle) ,डायमंड( Diamond) , एरो(Arrow) इत्यादि जैसे सिंबल (Symbol) का यूज़ किया जाता है इसको इसलिए बनाया जाता है ताकि अल्गोरिथम को और अच्छे से समझा जा सके.

फ्लो चार्ट (Flowchart) में इन्ही सिंबल का यूज़ किया जाता है और सिंबल एक दुसरे से कनेक्टेड होकर ये दर्शाते है की प्रोग्राम कैसे कैसे फ्लो कर रहा है या फिर आसान भाषा में कहे तो कैसे ये काम कर रहा है ये सब बताता है तो इसलिए आपको फ्लो चार्ट में बेसिक सिंबल (Basic Symbol) के बारे में पता होना चाहिए की इन सिंबल का क्या क्या यूज़ है आइये जान लेते है.

Flowchart basic Symbol की जानकारी

 1. स्टार्ट और स्टॉप सिंबल

flowchart start stop symbolइस सिंबल का यूज़ फ्लो चार्ट में किसी भी फ्लो चार्ट को शुरू और बंद करने के लिए किया जाता है उदहारण के लिए अगर अल्गोरिथम लिखते वक्त शुरुवात में आप start लिखते थे तो यही स्टार्ट की जगह पे फ्लोचार्ट में इस सिंबल को बनाना होगा इसके साथ ही फ्लो चार्ट बंद करने लिए आपको इसी सिंबल को यूज़ करना होगा.

 2. इनपुट और आउटपुट सिंबल

input output flowchart

फ्लो चार्ट (FlowChart) में अगला सिंबल आता है जिसका नाम है इनपुट(Input) और आउटपुट(Output) इन दोनों आप्शन का यूज़ इनपुट या यानि कोई वैल्यू एक्सेप्ट करने के लिए यूज़ किया जाता है और अगर आप रिजल्ट डिस्प्ले करना है तो आपको यही सिंबल यूज़ करना है आउटपुट के लिए उदहारण : अगर आप दो नंबर को जोड़ते है तो उसके लिए आपको पहले दो नंबर लेना होगा तो इसके लिए हम यही सिंबल यूज़ करेंगे और दोनों का सम(sum) शो करना है तो यही सिंबल प्रयोग करेंगे.

3. प्रोसेस और इंस्ट्रक्शनflowchart process

अगर आपको किसी भी तरह का कैलकुलेशन(Calculation) , प्रोसेस(process) , या फिर इंस्ट्रक्शन(instruction) देना है फ्लो चार्ट में तो आप इस सिंबल का यूज़ कर सकते है उदहारण के लिए : मान लीजिये अगर आपको दो नंबर को ऐड यानि जोड़ना है तो जो जोड़ने का प्रोसेस होगा वो इस बॉक्स के अन्दर होगा इसी बॉक्स के अन्दर आपको कैलकुलेशन लिखना होगा.

4.क्वेश्चन और डिसिशन सिंबलquestion box flowchart

इस सिंबल का यूज़ बेसिकली तब किया जाता है जब आपको किसी तरह का डिसिशन (Decision) लेना है या फिर कोई क्वेश्चन(Question) हो तब आप इस सिंबल का यूज़ कर सकते है फ्लो चार्ट में उदहारण के लिए अगर आप किसी तरह का कंडीशन(Condition) लगाना चाहते है तो आप इस सिंबल का प्रयोग कर सकते है जैसे की मान लीजिये एक चीज़ सही है और एक चीज़ गलत है तो ऐसे में एक साइड को हम ट्रू*True) बोलेंगे और दुसरे साइड को फाल्स(False) कहेंगे अगर कोई ब्रांचिंग बनाना है तो आप इस सिंबल का प्रयोग कर सकते है.

 5. एरो और डायरेक्शन लाइन्स सिंबलarrow flowchart

किसी भी फ्लो चार्ट में अगर आपको डायरेक्शन शो करना है की डाटा कहा से कहा जा रहा है यानि कहा फ्लो करना है तो ऐसे कंडीशन पे आपको एरो(Arrow) सिंबल का यूज़ करना होगा उदहारण के लिए अगर कोई कंडीशन फाल्स(False) है तो आपको एरो से शो करना होगा की फाल्स कंडीशन के साइड एरो दिखाना होगा और कंडीशन सही के लिए दूसरी साइड एरो दिखाना होगा.

 6. कनेक्टर सिंबलconnector symbol

फ्लो चार्ट(Flowchart) में इस सिंबल का यूज़  फ्लो चार्ट के एक पार्ट को दुसरे पार्ट से जोड़ने के लिए किया जाता है उदहारण के लिए मान लीजिये अगर आपके पास 2 फ्लो चार्ट है दोनों एक दुसरे से कनेक्टेड है और आप शो करना है की ये एक दुसरे से कनेक्टेड है तो आप इस सिंबल का यूज़ कर सकते है.

 7. कमेंट्स , एक्सप्लेनेसन , डेफिनिशनफ्लो चार्ट कमेंट्स सिंबल

इस सिंबल का प्रयोग फ्लोचार्ट(Flowchart) में किसी भी तरह का कमेंट एक्सप्लेनेसन और डेफिनिशन के लिए यूज़ किया जाता है अगर आपको किसी भी फ्लो चार्ट में एक्सप्लेन करना है या किसी भी तरह का कमेंट देना है तो आप इस सिंबल का यूज़ कर सकते है.

 8. प्रिपरेशन सिंबलpreparation flowchart symbol

इस सिंबल का यूज़ एडवांस्ड प्रोग्रामिंग में यूज़ किया जाता है इसका बेसिकली यूज़ प्रोग्रामिंग में प्रिपरेशन के यूज़ किया जाता है  जैसे की डू लूप(Do Loop) में इत्यादि.

 9. सेपरेट फ्लोचार्ट सिंबलrefers to flowchart

इस सिंबल का यूज़ भी एडवांस्ड प्रोग्रामिंग में यूज़ किया जाता है अगर आपको कोई भी फ्लोचार्ट(flowchart) किसी भी फ्लो चार्ट से अलग करना है यानि सेपरेट करना है तो आप इस सिंबल का यूज़ कर सकते है.

तो ये फ्लोचार्ट(Flowchart) के लिए कुछ बेसिक्स(Basic) सिंबल है अगर आपको किसी भी प्रोग्राम के लिए फ्लोचार्ट बनाना होगा तो आपको इन सिंबल के बारे में पता होना चाहिए की कोनसा सिंबल कब यूज़ किया जाना चाहिए.

Advantage of Flowchart : फ्लो चार्ट बनाने के फायदे

  • फ्लो चार्ट कम्युनिकेशन के लिए बहोत इजी यानि आसान होता है
  • प्रोग्राम को समझना आसान हो जाता है
  • डाटा कहा फ्लो करता है ये शो करता है
  • किसी भी प्रॉब्लम को समझने में आसानी होती है
  • ये किसी भी न्यू सिस्टम डिजाईन करने के लिए बेस्ट टूल है

DisAdvantage of Flowchart : फ्लो चार्ट बनाने के नुकशान

  • फ्लो चार्ट बहोत टाइम वेस्ट(Waste) और स्लो प्रोसेस है सॉफ्टवेर डेवलपमेंट में
  • फ्लो चार्ट को प्रोडूस और मैनेज करना थोडा मुस्किल होता है
< previous

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY